UttarPradesh

रामलला अपने घर में विराजे : आज मैं पूरे पवित्र मन से महसूस कर रहा हूं, कालचक्र बदल रहा है- PM

Desk : रामलला अपने घर में आज विराजे हैं । आपको बता दें कि, अयोध्या के नवनिर्मित राम मंदिर में प्राण प्रतिष्ठा समारोह आज सोमवार को संपन्न हुआ । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘यजमान’ के रूप में अनुष्ठान पूरे किए । उन्होंने उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत की उपस्थिति में ‘प्राण प्रतिष्ठा’ अनुष्ठान में भाग लिया । पीएम ने समारोह में हिस्सा लेने आए मेहमानों को संबोधित भी किया । बता दें कि, ऐतिहासिक आयोजन का साक्षी बनने तमाम हस्तियां रामनगरी पहुंचे थे । कई राज्यों ने प्राण प्रतिष्ठा समारोह के मद्देनजर 22 जनवरी को पब्लिक हॉलिडे भी घोषित किया है । केंद्र सरकार ने भी आधे दिन की छुट्टी का ऐलान किया । मंगलवार यानि 23 जनवरी से अयोध्या में श्रद्धालु रामलला के दिव्य दर्शन कर सकेंगे ।

प्राण-प्रतिष्ठा के बाद पीएम मोदी समेत कई बड़ी हस्तियां अयोध्या से रवाना हुए । जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने इस बारे में जानकारी देते हुए कहा है कि, आम जनता 23 जनवरी से ही दर्शन कर सकती है । राम मंदिर निर्माण में लगे श्रमिकों पर पीएम नरेंद्र मोदी ने फूल बरसाए । इस दौरान बड़ी संख्या में श्रमिक कतार में खड़े रहे और पीएम ने उनके बीच पहुंचकर पुष्प वर्षा की । अयोध्‍या में मोदी ने कहा, ‘आज मैं पूरे पवित्र मन से महसूस कर रहा हूं । कालचक्र बदल रहा है । यह सुखद संयोग है कि हमारी पीढ़ी को एक कालजयी पथ के शिल्पकार के रूप में चुना गया है । हजारों वर्ष बाद की पीढ़ी राष्ट्र निर्माण के हमारे आज के कार्यों को याद करेगी । इसलिए मैं कहता हूं यही समय है, सही समय है । ‘ PM मोदी ने कहा, ‘राम भारत की आस्था हैं, राम भारत का आधार हैं, राम भारत का विचार हैं, राम भारत का विधान हैं, राम भारत की चेतना हैं, राम भारत का चिंतन हैं, राम भारत की प्रतिष्ठा हैं, राम भारत का प्रताप हैं, राम प्रभाव हैं, राम प्रवाह हैं, राम नेति भी हैं, राम नीति भी हैं, राम नित्यता भी हैं, राम निरंतरता भी हैं, राम व्यापक हैं, विश्व हैं, विश्वात्मा हैं इसलिए जब राम की प्रतिष्ठा होती है तो उसका प्रभाव शताब्दियों तक नहीं होता उसका प्रभाव हजारों वर्षों तक होता है.’ अयोध्या: PM मोदी ने कहा, ‘हर युग में लोगों ने राम को जीया है. हर युग में लोगों ने अपने-अपने शब्दों में, अपनी तरह से राम को अभिव्यक्त किया है. यह राम रस जीवन प्रवाह की तरह निरंतर बहता रहता है.’ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा, ‘आज से हजार साल बाद भी लोग आज की इस तारीख की, आज के इस पल की चर्चा करेंगे. ये कितनी बड़ी राम कृपा है कि हम सब इस पल को जी रहे हैं और इसे साक्षात घटित होते देख रहे हैं…’ पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं दैवीय अनुभव इस पल कर रहा हूं… मैं प्रभु श्री राम से क्षमा याचना भी करता हूं… हमारे पुरुषार्थ में कुछ तो कमी रह गयी होगी… तभी सदियों तक ये काम नहीं कर पाए मगर आज ये कमी पूरी हो गई..भगवान राम हमें ज़रूर क्षमा करेंगे…’ अयोध्या में PM मोदी ने कहा, ‘हमारे राम लला अब टेंट में नहीं रहेंगे, वे अब दिव्य मंदिर में रहेंगे. मेरा पक्का विश्वास है कि जो घटित हुआ है उसकी अनुभूति देश और दुनिया के कोने-कोने में रामभक्तों को हो रही होगी. यह क्षण अलौकिक है… यह माहौल, यह घड़ी हम सब पर प्रभु श्री राम का आशीर्वाद है.’ अयोध्या में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्री राम जन्मभूमि मंदिर में रामलला की आरती की । प्रांगण में मंत्रोच्चार के बीच देशभर से लाए गए वाद्य यंत्रों की स्वर लहरियां गूंजी ।

Related Articles

Back to top button