Bihar

पिछले 15 दिनों से छापेमारी नहीं कर रही सुपौल पुलिस, पेट्रोल पंप का बकाया है पैसा

सुपौल की पुलिस ने बीते 15 दिनों में किसी तरह की छापेमारी नहीं की है। शराब बंदी कानून को सख्ती से लागू करवाने को लेकर सरकार ने हर जिले की पुलिस को पेट्रोलिंग करने की आदेश दे रखी है, ऐसे में पेट्रोल ना होने के चलते सुपौल पुलिस का छापेमारी अभियान ना चलाये जाने की खबर चर्चे में है।

द इंडिया टॉप, सेंट्रल डेस्क: सूबे में साल 2016 से ही पूर्ण रूप से शराब बंदी है। इसको पूर्ण रुप से लागू करवाने के लिए बिहार के तमाम जिलों में पुलिस रोजाना छापेमारी करती रहती है, लेकिन सुपौल में 10 अगस्त के बाद किसी तरह की कोई छापेमारी नहीं हुई है‌। इसके पीछे के कारण जानकर आपको भी हैरानी होगी।

पेट्रोल पंप का बकाया भुगतान
सुपौल पुलिस के पास पेट्रोल भरवाने तक के पैसे नहीं है। पेट्रोल पंप का 5 लाख 85 हजार बकाया होने के कारण पेट्रोल पंप ने तेल देने से मना कर दिया है। जिसके बाद से 15 दिनों से जिला में किसी तरह की कोई छापेमारी नहीं हुई है।

पेट्रोल पंप के मालिक लिख चुके हैं पत्र
इसको लेकर कृष्णा फ्यूल सेंटर के मालिक पत्र लिखकर भी संबंधित अधिकारी को पुराने हिसाब–किताब से अवगत कराया था, लेकिन इसका कोई खास असर नहीं हुआ। अभी तक उनके बकाया बिल का भुगतान नहीं हुआ है। जिसके बाद से उन्होंने पेट्रोल देने से मना कर दिया है। उनका साफ साफ कहना है– “जब तक पुराना बिल का भुगतान नहीं होता, तब तक हम पेट्रोल नहीं देंगे।”

पेट्रोल पंप के मैनेजर भी डीएम को लिख चुके हैं पत्र
पेट्रोल पंप के मैनेजर संतोष कुमार ने भी सुपौल के जिलाधिकारी को पत्र लिखकर बिल को भुगतान करने की बात कही थी। जिसके बाद डीएम ने इसको संज्ञान में लेते हुए संबंधित विभाग को कहा भी था, लेकिन इसका कोई असर नहीं हुआ। बता दें कि एक पी पेट्रोल पंप से सारे विभाग को तेल दिया गया था

Related Articles

Back to top button