Bihar

पर्यटकों के लिए खुला अमवामन झील, पर्यटन मंत्री ने टिकट खरीदकर जेट स्पाईस का उठाया लुत्फ

पश्चिम चंपारण जिले में बेतिया के पर्यटकीय स्थल अमवामन झील में आज बुधवार को पर्यटकों की सुविधाओं में वृद्धि के लिए विभिन्न तरह की बोटिंग सेवा की शुरुआत की गई. इस नौका विहार का उद्घाटन बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल व पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने किया. इस मौके पर पूर्व विधायक प्रकाश राय एवं DM कुंदन कुमार भी मौजूद रहे.

यहां नौका विहार की शुरुआत हो जाने की वजह से अब जिले में पर्यटक सिर्फ वालमिकी नगर टाइगर रिजर्व ही घूमने नहीं आएंगे बल्कि अब यहां आकर बोटिंग का भी आनंद लेंगे. जो पर्यटक जेट स्पाईस एवं जेट एटैक जैसी सुविधाओं का आनंद लेने के लिए समुंदर किनारे गोवा जैसे शहरों में जाते थे अब वह इसका मजा अमवामन झील में भी ले पाएंगे.

पश्चिम चंपारण के अमवामन वाटर एडवेंचर स्पोर्ट्स में पर्यटकों के लिए हर तरह की सुविधा मुहैया कराई जाएगी. यहां महिलाओं के लिए चेंजिंग रूम की भी सुविधा होगी.

इस उद्घाटन के मौके पर पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद ने बताया की आज बुधवार से अमवामन झील को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. वहीं भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने बताया की यहां जल्द ही पर्यटकों को रुकने के लिए पर्यटक भवन का भी निर्माण किया जाएगा.

इस मौके पर बिहार भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष संजय जायसवाल एवं पर्यटन मंत्री नारायण प्रसाद सहित कई लोगों ने टिकट खरीदकर सबसे पहले जेट स्पाईस का लुत्फ उठाया.

उद्घाटन कार्यक्रम के दौरान मौजूद जिला पदाधिकारी कुंदन कुमार ने बताया की यह झील आने वाले दिनों में बिहार के लिए एक बहुत ही महत्वपूर्ण टुरिज़म डेस्टिनेशन के रूप में उभर कर सामने आएगा. उन्होंने बताया की झील की सबसे बड़ी विशेषता है यहां का वाटर लेवल पूरे वर्ष मेन्टेन रहता है.
यह पर्यटक स्थल जिले के मझौलिया प्रखंड क्षेत्र और एनएच 727 पर स्थित है. जो पश्चिमी चंपारण की सीमा पर है और इसे अब पश्चिमी चंपारण का प्रवेश द्वार भी कहा जाने लगा है. दरअसल जैसे ही लोग जिले की सीमा में प्रवेश करेंगे वैसे ही अमवामन पर्यटकों का स्वागत करेगा. अमवामन झील का उपयोग पहले सिर्फ ग्रामीण क्षेत्र के लोग मछली मारने के लिए करते थे, लेकिन अब बिहार के पश्चिम चंपारण में भी गोवा जैसे आनंद के लिए देश-विदेश से पर्यटक पहुंचेंगे.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button