Bihar
Trending

कानाफूसीः क्या लव-कुश जोड़ी फिर से दिखेगी साथ?

नीतीश और उपेंद्र कुशावाहा आए साथ तो सबकी होगी मात

नीतीश कुमार और उपेंद्र कुशवाहा के साथ आने खबर फिर से फैल रही है। बिहार में बनते बिगढ़ते राजनीतिक समीकरण के बीच कुर्मी-कुशवाहा गठजोड़ की बात चल रही है। ऐसा कहा जा रहा है कि कुशवाहा आए साथ तो जदयू बहुत मजबूत होगी।

पटनाः 23 नवंबर, लोकसभा चुनाव को लेकर देश और प्रदेश में जोड़ तोड़ शुरू हो चुका है। बिहार में जातीय गणना के बाद से नये समीकरण पर विचार किया जा रहा है। जदयू की कोर वोटर कुर्मी की संख्या जातीय गणना के अनुसार 3 प्रतिशत भी नहीं है। ऐसे में वोटों के ध्रुवीकरण के लिए कुशवाहा वोटरों का साथ जदयू को चाहिए।

कुशवाहा आए साथ मजबूत होंगे नीतीश!

बीजेपी में सम्राट चौधरी कुशवाहा समाज से आते हैं। बीजेपी ने चौधरी को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर जदयू की मुश्किलें इस मामले में बढ़ा दी थी। उधर जदयू के प्रदेश अध्यक्ष उमेश कुशवाहा की अलोकप्रियता भी नीतीश कुमार की परेशानी बढ़ा रही है। इसलिए अगर नीतीश कुमार, उप्रेंद्र कुशवाहा को साथ लेकर आते हैं तो यह मास्टर स्ट्रोक साबित हो सकता है।

जातीय गणना के आंकड़ों से इस बात को अच्छे से समझा जा सकता है। बिहार में कुर्मी की संख्या 2.70 प्रतिशत है। धानुक आबादी (कुर्मी की उपजाति) 2.8 प्रतिशत और कुशवाहा आबादी 3.2 प्रतिशत है।  इन सबको जोड़ने पर कुल 9 प्रतिशत की आबादी होती है। इसके साथ ही मजबूत लव-कुश समीकरण के कारण कुछ नई दलित और पिछड़ी जाति जुड़ेगी। अनुमानतः लव-कुश समीकरण का आबादी प्रतिशत 13 से 15 प्रतिशत तक चला जाएगा। जो काफी बड़ा और मजबूत वोट प्रतिशत बना सकता है।

क्या है नीतीश और उपेंद्र कुशवाहा के साथ आने की असलियत?

जब से जदयू राजद के साथ गई है कुशवाहा ने कभी नीतीश कुमार पर कठोर बयान नहीं दिया। उपेंद्र कुशवाहा ने राजद के साथ की निंदा की है लेकिन नीतीश कुमार को कभी नहीं घेरा। जातीय गणना के मामले में भी राजद को कटघरे में खड़ा किया था। विधानसभा के नीतीश जी के बयान के बाद भी कुशवाहा ने नीतीश को निशाने पर नहीं लिया। इन्हीं कारणों से दोनों के साथ आने की अपवाह तेज गई है।

वहीं जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार का उपेंद्र कुशवाहा के गुरुवार को दिया गया बयान भी मायने रखता है। उपेंद्र कुशवाहा को खरी खोटी सुनाने का कोई मौका नहीं छोड़ेने वाले जदयू प्रवक्ता चुप से दिखे। यह सब बातें बताती हैं की अंदर खाने खिचड़ी पक रही है।

Related Articles

Back to top button