BiharEducation News

केके पाठक का आदेश : 13 फरवरी को प्रदर्शन करने वाले शिक्षक हो जाए सावधान, नहीं तो हो जाएंगे गिरफ्तार… जानें पूरा मामला…

Desk : बिहार में नियोजित शिक्षकों को लेकर एक बार फिर से बिहार शिक्षा विभाग के अपर मुख्य सचिव केके पाठक ने बड़ा आदेश दिया है । आपको बता दें कि, केके पाठक ने सक्षमता परीक्षा के विरोध में धरना प्रदर्शन में शामिल होने वाले शिक्षकों पर FIR यानि मामला दर्ज करने का आदेश दिया है । वहीं सभी डीएम को धरना प्रदर्शन में शामिल होने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई करने का आदेश दिया है ।

13 फरवरी को नियोजित शिक्षक विधानसभा का करेंगे घेराव

केके पाठक ने आईपीसी की धारा 141, धारा 186 और धारा 187 के तहत कार्रवाई का आदेश दिया है । उन्होंने धरना प्रदर्शन में शामिल होने वाले शिक्षकों को चिन्हित कर उनके खिलाफ कार्रवाई करने की बात कही है । वैसे शिक्षकों के खिलाफ नियमावली के तहत अनुशासनिक कार्रवाई का भी आदेश दिया है । आपको बता दें कि, 13 फरवरी को नियोजित शिक्षक विधानसभा का घेराव करने वाले हैं ।

सरकार को शिक्षक संघ ने इस प्रकरण को लेकर कड़ी चेतावनी

वहीं शिक्षक संघ के ऐलान के बाद केके पाठक का एक्शन शुरू हो गया है । 13 फरवरी को राज्य भर के नियोजित शिक्षक पटना में प्रदर्शन करने वाले हैं । यह पूरा मामला शिक्षकों की सक्षमता परीक्षा से जुड़ा हुआ है । इस परीक्षा के विरोध में और सरकार के नियमों के खिलाफ लाखों शिक्षक गोलबंद हो गए हैं । सरकार को शिक्षक संघ ने इस प्रकरण को लेकर कड़ी चेतावनी भी दी है । हालांकि, शिक्षकों का कहना है कि, परीक्षा में फेल होने पर सेवा से हटाने का फैसला सरकार को वापस लेना होगा ।

सिर में कफन बांधकर लाखों शिक्षक 13 फरवरी को विधानसभा का घेराव करेंगे

शिक्षकों ने सक्षमता परीक्षा के जरिए ऐच्छिक स्थानांतरण की मांग की है और कहा कि, जबरन ट्रांसफर करना और सेवा से हटाना असंवैधानिक है । शिक्षक नेताओं ने कहा कि, अब आरपार की लड़ाई होगी । सरकार की गोली से भी शिक्षक नहीं डरने वाले हैं । वहीं शिक्षकों का कहना है कि, सिर में कफन बांधकर लाखों शिक्षक 13 फरवरी को विधानसभा का घेराव करने वाले हैं । शिक्षा विभाग की करतूतों से अजीज होकर हमने निर्णय लिया है । खास बात तो यह है कि, कहा गया कि कोई भी शिक्षक परीक्षा में शामिल नहीं होंगे ।

Related Articles

Back to top button