BiharEducation News

BPSC द्वारा पहले चरण में चयनित 31 अध्यापकों की नियुक्ति रद्द…

Desk : बिहार से एक बड़ी खबर सामने आ रही है । जहां जिले में बीपीएससी चयनित अध्यापकों के पहली चरण में बहाली प्रक्रिया में फर्जी तरीके से नौकरी लेने वाले 31 शिक्षकों की नियुक्ति रद्द कर दी गई है । वहीं बीते शुक्रवार को जिला शिक्षा पदाधिकारी के कार्यालय से इसकी सूचना जारी की गई है । हालांकि, इसमें सबसे बड़ी बात यह है कि इन शिक्षकों का कॉउंसिलिंग के बाद विद्यालय में पदस्थापन भी कर दिया गया था । वहीं विद्यालय में योगदान करने गए फिर जांच की गई तो वांछित योग्यता पेपर नहीं मिला । इसके बाद योगदान नहीं करने दिया गया है । जांच टीम के कि ओर से जिला कार्यालय से संपर्क किया गया । इसके बाद इन अभ्यर्थियों के वांछित योग्यता से संबंधित सर्टिफिकेट की जांच कराई गई थी । जांच में योग्यता में काफी गड़बड़ी मिली फिर इन सभी अध्यापकों की नियुक्ति को रद्द कर दिया गया है । वहीं बताया यह जा रहा है कि, नियुक्ति रद्द अभ्यर्थियों में किसी ने एसटीईटी, टीईटी क्वालिफाई नहीं किया था, तो किसी ने स्नातक में संबंधित विषय में ऑनर्स नहीं किया है । साथ ही बीएड बिना उत्तीर्ण किए बीपीएससी ने अभ्यर्थी का रिजल्ट जारी कर दिया था । नौकरी करने की मंशा से विभाग के आंख में धूल झोंका जा रहा था । अब सवाल उठता है कि, इन अभ्यर्थियों को एडमिट कार्ड कैसे जारी कर दिया गया जो वांछित योग्यता ही नहीं रखते हैं । इस मामले को लेकर डीईओ जियाउल होदा खां ने बताया है कि, विद्यालय अध्यापक अभ्यर्थियों के शैक्षणिक, प्रशैक्षणिक और अन्य सर्टिफिकेट की बारीकी से जांच की गई, जिसमें गड़बड़ी पाए जाने वाले विद्यालय अध्यापकों की नियुक्ति को रद्द कर दिया गया । जिले के चयनित 2220 में से 2063 विद्यालय अध्यापकों को नियुक्ति और पदस्थापना पत्र दिया गया था ।

Related Articles

Back to top button