Biharstate

दरभंगा AIIMS को लेकर Tejashwi और केंद्रीय मंत्री में तनातनी हो गई है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के आरोप के बाद बयानबाजी तेज है। BJP and grand alliance face to face regarding Darbhanga AIIMS.

BJP and grand alliance face to face regarding Darbhanga AIIMS.

बीजेपी और महागठबंधन में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है। BJP के मंत्री मंडाविया का कहना है कि बिहार सरकार दरभंगा AIIMS नहीं बनने दे रही है। वहीं तेजस्वी यादव ने कहा कि बिहार सरकार पर यह झूठा आरोप लगाया जा रहा  है। एक पत्र के हवाले से तेजस्वी ने कहा कि बीजेपी निर्माण को लेकर हीलाहवाली कर रही है। बिहार सरकार ने निःशुल्क जमीन उपलब्ध कराई। इसके बाद जमीन के समतलीकरण के लिए कैबिनेट से 309 करोड़ का आवंटन कराया गया। जिसमें से 250 करोड़ की मिट्टी को उपयोग में लाया भी जा रहा है। ऐसे में केंद्रीय मंत्री के द्वारा लगाया गया आरोप बेबुनियाद है।

दरभंगा एम्स की घोषणा पर सीएम नीतीश कुमार ने पीएम को धन्यवाद ज्ञापित किया था। साथी इसके निर्माण को जल्द से जल्द पूरा करने करने के लिए अपील भी की थी। नीतीश कुमार ने AIIMS की देरी को राजनीति प्रेरित फैसला बताया। उन्होंने कहा कि हम अब भी चाहते हैं कि AIIMS का निर्माण जल्द पूरा हो।

दरभंगा AIIMS की बिंदुवार कहानी।

19 सितम्बर 2020 को दरभंगा AIIMS की अनुमति मिली।

तीन नवंबर 2021 को बिहार सरकार ने शोभन बाइपास पर जमीन उपलब्ध कराई।

बिहार सरकार की दी हुई जमीन निर्माण के लिए अनुपयुक्त पाई गयी।

मुख्य सड़क से जमीन को 7 से 10 फिट नीचे पाया गया था।

नई जगह जमीन के लिए केंद्र सरकार ने बिहार सरकार को पत्र लिखा।

151 एकड़ जमीन बिहार सरकार ने निःशुल्क उपलब्ध कराई थी

निर्माण के लिए 250 करोड़ की लागत की मिट्टी बिहार सरकार ने दी।

बिहार सरकार ने ताजा विवाद के बाद AIIMS निर्माण के लिए आवश्यक सहयोग की बात कही है। आवंटित भूमि के समतलीकरण को लेकर मुख्य समस्या है। इसे दूर करने के लिए बिहार सरकार मिट्टी उपलब्ध कराने को तैयार है।    

#BJP # Tejaswi_yadav #Darbhanga_AIIMS # Nitish kumar

Related Articles

Back to top button