BiharUncategorized

जातीय जनगणना पूरीः नीतीश सरकार जल्द जारी कर सकती है आंकड़े!Caste census completed: Nitish government may release the figures soon!

जाती गणना के आंकड़ों के मायने

काफी विवादित रही जातीय जनगणना का कार्य पूरा कर लिया गया है। बिहार सरकार की तरफ जारी बयान के अनुसार 2011 की जनगणना से इसकी तुलना की जा रही है। जिससे की विभिन्न मानकों में तुलनात्मक वृद्धि या कमी का आकलन हो सके। आपको बता दें कि दो चरणों में पूरी हुई इस गणना की रिपोर्ट कभी भी साझा की जा सकती है। फिल्हाल आंकड़ों को बेल्ट्रॉन द्वारा विकसित ऐप पर अपलोड किया जा रहा है।

नीतीश कुमार ने Caste Census के पूरे होने पर हर्ष जताया। जातीय गणना बिहार के विकास के लिए आवश्यक है। आने वाले दिनों में विभिन्न राज्य भी इस दिशा में कार्य करेंगे।  वहीं जदयू के नेताओं ने इस बहाने बीजेपी पर निशाना साधा। उन्होंने ने कहा कि बीजेपी ने बहुत कोशिश की इसे रोकने की, लेकिन हमने अपना काम पूरा किया। देश की न्यायपालिका पर हमें पूरा भरोसा था, हमारे भरोसे की जीत हुई, जनता की जीत हुई। सरकार जल्द ही आंकड़े साझा करेगी।

जातीय गणना में कौन से आंकड़े होंगे साझा?

विभिन्न जातियों की संख्या।

सभी जातियों के लोगों की संख्या।

जातिवार शिक्षा एवं आय का स्तर ।

निवासियों की आयु एवं लैंगिक अनुपात।

रहवासी एवं प्रवासी मजदूरों की संख्या ।

कुशल एवं अकुशल श्रमिकों की संख्या।

जोत भूमि वाले किसानों की संख्या।

भूमिहीनों की संख्या ।

आंकड़ों पर ली जाएगी विशेषज्ञों की राय!

ऐसा बताया जा रहा है कि नीतीश कुमार जातीय गणना के आंकडों पर विशेषज्ञों की राय लेंगे। The India Top को मिली जानकारी के अनुसार ऐसा विकास योजनाओं के लिए किया जाएगा। सामान्य प्रशासन बिहार सरकार के अनुसार सामाजिक एवं आर्थिक विशेषज्ञों से सलाह की जानी है। रिपोर्ट जारी होने के बाद ऐसा किया जाएगा। जिसमें लोगों के सामाजिक एवं आर्थिक जीवन में कैसे बदलाव आ रहे हैं इसका आकलन होगा। इसके बाद भविष्य की योजनाओं का निर्माण तत्अनुसार किया जाएगा। मूल्यांकन का आधार 2011 की जनगणना को रखा जाएगा। विषयवार 2011 की जनगणना से वर्तमान आंकड़ों को देखा जाएगा।

Related Articles

Back to top button