Biharpoliticsबड़ी खबर ।

‘अखिलेश यादव को देशहित की समझ नहीं’, गृह राज्य मंत्री ने सपा नेता पर किया पलटवार

आतंकवाद के मामलों में गिरफ्तारी पर यूपी के पूर्व सीएम अखिलेश यादव द्वारा भाजपा पर संदेह जताने वाले बयान पर सियासी बवाल जारी है. अब इसपर केंद्रीय गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय (Nityanand Rai) ने प्रतिक्रिया देते हुए अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की समझ पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं. उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा कि लखनऊ से हुए आतंकियों की गिरफ़्तारी पर विपक्षी नेताओं के बयानों को लेकर उन्हें आतंकवाद पर राजनीति नहीं करनी चाहिए. नित्यानंद राय ने कहा है कि मोदी सरकार में आतंकवादियों को बिरयानी नहीं खिलाई जाती है बल्कि मोदी सरकार में आतंकियों पर कार्रवाई होती है. विपक्षी नेताओं को मोदी सरकार का धन्यवाद देना चाहिए कि आतंकी घटनाओं को अंजाम देने से से पहले पकड़े जा रहे हैं. उन्होंने कहा कि आतंकी घटनाओं या उन पर कार्रवाई को चुनाव से जोड़ना गलत है. आतंकी घटनाओं से चुनाव का कोई मतलब नहीं होता है. आतंकियों को रोकना देश हित में कार्रवाई होती है. अखिलेश यादव को इन बातों की समझ नहीं है इसलिए आतंकियों की कार्रवाई को चुनाव से जोड़ते हुए बयान दे रहे हैं.

गृह राज्य मंत्री ने कहा कि आरजेडी, कांग्रेस और अखिलेश यादव को मैं यह सलाह दे रहा हूं कि पहले की कुछ सरकारों ने हिंदुस्तान में आतंकी कनेक्शन को फला फूला कर रखा था, जो अभी भी कभी-कभी देश में दिखाई देते हैं. लखनऊ में पकड़े गए आतंकियों का पाकिस्तान कनेक्शन साबित हो रहा है तो देश के विपक्षी नेता राहुल गांधी या अखिलेश यादव पाकिस्तान या चीन के साथ सुर क्यों मिलाते हैं? आतंकियों पर कार्रवाई होने पर उन्हें देश की सरकार को बधाई भी देनी चाहिए.

बता दें कि लखनऊ के काकोरी इलाके से एटीएस द्वारा पकड़े गये अलकायदा के संदिग्ध आतंकियों पर बोलते हुए अखिलेश यादव ने कह दिया कि मैं यूपी की पुलिस पर और खासकर बीजेपी की सरकार पर भरोसा नहीं कर सकता. उनके इस बयान के बाद काफी खलबली मची हुई है. सोशल मीडिया पर बीजेपी सपा नेताओं को घेरा जा रहा है. यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में आतंकवादी घटनाओं को अंजाम देने के षडयंत्र में लगे दो व्यक्तियों की गिरफ्तारी पर विपक्षी दलों की प्रतिक्रिया पर कहा भाजपा के लिए देश और लोगों की सुरक्षा सर्वोपरि है. सुरक्षा के मामले पर राजनीति करना ऐसे दलों का चरित्र है. जबकि देश हित के मामलों को राजनीति से ऊपर रखा जाना चाहिए.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button