Biharpolitics

तेजस्वी यादव के रोजगार और विकास के दावों पर प्रशांत किशोर का तंज,बोले-जीवन में पढ़ाई…

Desk : बिहार के ​उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव का दावा है कि बिहार में बीते छह महीने में युवाओं को 10 लाख नौकरी दे दी गई और राज्य में बहुत ही तेजी से विकास हो रहा है। तेजस्वी के इस दावे के बारे में सोमवार को जब पत्रकारों ने जन सुराज के सूत्रधार प्रशांत किशोर से पूछा तो उन्होंने पोल खोलते हुए दो टूक जवाब दिया। प्रशांत किशोर ने कहा कि तेजस्वी यादव की जितनी विद्वता है, जितनी समझ है उतना ही तो बोलेंगे। जिस आदमी को यही नहीं पता है कि जीडीपी होता क्या है? खड़े होकर कैमरे के सामने कहा कि देश में सबसे ज्यादा जीडीपी बिहार की है। यही होता है कि आपने जब जीवन में खुद पढ़ाई-लिखाई नहीं की, जब आपकी खुद की समझ नहीं है, तो ऐसे ही बोलेंगे। इसीलिए आपको यही नहीं पता कि जीडीपी होता क्या है?

बिहार में जो दल या नेता सत्ता में रहता है, वो कहता है कि बहुत हो रहा विकास: प्रशांत किशोर
प्रशांत किशोर ने कहा कि जो दल या नेता सत्ता में रहता है, वो यही बताना चाहता है कि बिहार में बहुत विकास हो रहा है। मान लीजिए कि जिन नेताओं और दलों ने बिहार में शासन किया है, सबने अपने-अपने तरीके से अच्छा काम किया। मान लीजिए कि कांग्रेस ने अपने लगभग 45 सालों के शासन में बहुत अच्छा काम किया। ये भी मान लीजिए कि लालू यादव के 15 सालों के शासन में यहां के पिछड़े तबके के लोगों को समाजिक न्याय के नाम पर आवाज मिल गई, बल मिल गया। ये भी मान लिया जाय कि नीतीश कुमार के राज में सड़क और बिजली के अलावा बिहार में कुछ विकास हो गया।

बिहार आज भी देश का सबसे गरीब,पिछड़ा और अशिक्षित राज्य: प्रशांत किशोर

बेगूसराय जिले के गढ़पुरा प्रखंड में नीतीश कुमार के सामाजिक न्याय संग विकास के नारे पर तंज कसते हुए प्रशांत किशोर ने आगे कहा कि इन सारे लोगों के दावों को सही मान भी लिया जाय तो भी इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता है ​कि बिहार आज भी देश का सबसे गरीब, सबसे पिछड़ा, सबसे ज्यादा अशिक्षित सबसे ज्यादा भुखमरी का शिकार है। ऐसे में तेजस्वी यादव, सुशील मोदी, राहुल गांधी या नरेंद्र मोदी ने क्या कहा, इस पर बात पर बहस का कोई मतलब ही नहीं है। अगर सबके दावों को सही मान भी लें तो भी आज बिहार देश का सबसे गरीब, सबसे ज्यादा पलायन वाला राज्य है, इस बात से भी कोई इंकार नहीं कर सकता है।

Related Articles

Back to top button