Biharpolitics

जीतन राम मांझी का छलका दर्द, SC-ST के नाम पर धरा दिया गया झूझूना…कर दी इन मंत्रालयों की मांग…

Desk : बिहार में मंत्रिमंडल बंटवारे के बाद एकबार फिर से पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने बड़ी बात कही है । आपको बता दें कि, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने मंत्रीमंडल बंटवारे को लेकर बयान दिया है । बता दे कि, जीतन राम मांझी के बेटे संतोष सुमन एमएलसी हैं । इस बार भी पहले की तरह ही अनुसूचित जाति अनुसूचित जनजाति कल्याण विभाग की कुर्सी संभालने की जिम्मेदारी मिली है । जीतन मांझी ने संतोष सुमन को दिए गए विभाग पर नाराजगी जताई है । मांझी ने कहा कि, हम क्या सिर्फ अनुसूचित जाति कल्याण मंत्रालय के लिए ही है । हले हम थे और अब बेटे को भी यही मंत्रालय मिला है । हमे उच्च विभाग का मंत्रालय चाहिए । इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि बेटे को पुल-पुलिया, सड़क, नदी, तालाब सहित ग्रामीण क्षेत्र के विकास की जिम्मेदारी भी मिलनी चाहिए ।

बिहार के पूर्व सीएम मांझी ने कहा कि, पहले हम मंत्री थे तो हमें भी यही मंत्रालय मिला और अब बेटा मंत्री बना तो यही मंत्रालय दिया गया है । हम क्या सिर्फ इसी मंत्रालय के लिए हैं । हमें भी बड़े विभाग का मंत्रालय मिलना चाहिए । इसके लिए हमें दुख है । खास बात तो मांझी ने बताया है कि, इसके लिए नीतीश कुमार को सोचना चाहिए कि वर्ष 1984 से 2013 तक हमें यही मंत्रालय मिला था । फिर बीच में हमें मुख्यमंत्री बना दिया गया और जब फिर मेरे बेटे को मंत्री बनाया गया तो यही मंत्रालय दे दिया गया ।

मांझी ने ये भी कहा कि हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा जो कि सरकार के घटक दल में शामिल है तो कोई बड़ा विभाग क्यों नहीं दिया जाता है । ये पहला मौका नहीं है जब जीतन राम मांझी ने मंत्री पद को लेकर अपनी आपत्ति दर्ज कराई है । इसके पहले उन्होंने अपने पार्टी के कोटे से एक और मंत्री की सीट की मांग की थी, जिसके लिए उन्होंने पूर्व मंत्री अनिल कुमार का नाम आगे किया । दूसरी तरफ मांझी के बेटे संतोष सुमन ने कहा कि, उनकी आस्था नरेंद्र मोदी और नीतीश कुमार में है । ऐसे में जो भी जिम्मेदारी उनको दी गई है उसे वह संतुष्ट हैं । साथ ही संतोष ने कहा कि, राज्य के लिए पूरी बेहतरीन से काम करेंगे ।

Related Articles

Back to top button