Biharpolitics

सब कुछ ठीक, फिर भी क्यों CM नीतीश और लालू यादव का पुतला जलाकर किया विरोध, जानें क्या है मामला…

डेस्क : बिहार के जहानाबाद जिले में अति पिछड़ा आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के प्रदेश संयोजक विधान पार्षद सदस्य रामबली सिंह की सदस्यता समाप्त को लेकर पुतला जलाकर विरोध किया है । आपोक बता दें कि, पांच सूत्री मांगों को लेकर अति पिछड़ा आरक्षण बचाओ संघर्ष समिति के कार्यकर्ताओं ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव का पुतला जलाकर विरोध मार्च निकाला है ।

शहर के काको मोड़ से प्रदर्शन निकालकर शहर के विभिन्न चौक चौराहा होते हुए जहानाबाद के कारगिल चौक पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और लालू यादव का पुतला जलाकर विरोध जताया है । अपनी मांगों के समर्थन में जमकर नारेबाजी भी की है । विरोध प्रदर्शन में शामिल नेताओं ने कहा कि, कपूरी ठाकुर ने 1978 में अति पिछड़ा समाज में कुल 94 जाति को समाहित किया था ।

लेकिन 2015 में मौजूदा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के द्वारा तेली चमोली सहित कई अन्य सम्पन्न जातियों को अति पिछड़ी जाति में शामिल कर मूल रूप से अति पिछड़ी जातियों के हकमरी कर दी है । जिसको लेकर हमलोगों ने लगातार आंदोलन किया और कर रहे हैं । इसी के तहत आज विरोध मार्च निकालते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव का पुतला जलाकर विरोध जताया है ।

इस दौरान दर्जनों की संख्या में अति पिछड़ा आरक्षण आंदोलन बचाओ संघर्ष समिति के कार्यकर्ता और नेता मौजूद रहे ।

Related Articles

Back to top button