National

दुनियाभर में फैले बिहार के सबसे रईस लोग, जानिए बिहारी अमीरों की लिस्ट….

बिहार के लोग लगभग हर क्षेत्र में अव्वल हैं, चाहे वह फिल्मी जगत हो, बिजनेस हो, नेतागिरी हो या प्रशासन हो। इस खबर में हम आपको बिहार के टॉप रईस लोगों के बारे में बताएंगे

DESK : बिहार के लोग लगभग हर क्षेत्र में अव्वल हैं, चाहे वह फिल्मी जगत हो, बिजनेस हो, नेतागिरी हो या प्रशासन हो। इस खबर में हम आपको बिहार के टॉप रईस लोगों के बारे में बताएंगे जिनका जन्म बिहार में हुआ और उनकी गिनती चोटी के धनाढ्यों में होती है।

बिहार के टॉप रईस लोगों में शामिल हैं उद्योगपति अनिल अग्रवाल। इनका जन्म 1954 में बिहार की राजधानी पटना में एक मारवाड़ी फैमिली में हुआ था। अनिल अग्रवाल भारतीय अरबपति हैं जो वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड के संस्थापक और अध्यक्ष हैं।वे Volcan Investments के माध्यम से वेदांता रिसोर्सेज को नियंत्रित करते हैं, जो व्यवसाय में 100% हिस्सेदारी के साथ होल्डिंग कंपनी है। अनिल अग्रवाल के परिवार के पास $4 बिलियन नेट वर्थ है। भारतीय रुपये में ये 3280 करोड़ के करीब है। उन्होंने एक कार्यक्रम में कहा था कि बिहार के एक छोटे से गांव से लंदन स्टॉक एक्सचेंज तक की मेरी यात्रा कई सीखों, बहुत सारी मेहनत और आत्मविश्वास से भरी रही है।

सुब्रत रॉय का जन्म बिहार के अररिया जिला में 1948 में हुआ था।1978 में उन्होंने सहारा इंडिया परिवार की स्थापना की थी।उनकी नेट वर्थ 1 मिलियन डॉलर होने का अनुमान है। सहारा इंडिया परिवार एक बहु-उद्योग व्यवसाय है। इसका मुख्यालय लखनऊ में है। समूह वित्त, स्वास्थ्य देखभाल, जीवन बीमा, ई-कॉमर्स, बुनियादी ढांचा, आवास आदि जैसे कई डोमेन संचालित करता है। सुब्रत रॉय ने स्वप्ना रॉय से शादी की। उन्होंने कुछ पुस्तकें भी लिखीं है। “शांति, सुख: संतुष्टि,” “मान, सम्मान, आत्मसम्मन,” “जीवन मंत्र,” और “मेरे साथ सोचो।सुब्रत रॉय को व्यापार दर्शन में उन्नत ज्ञान है, जिसे “सामूहिक भौतिकवाद” के रूप में भी जाना जाता है, जो मुख्य रूप से समूह विकास कौशल और विभिन्न तकनीकों को बढ़ावा देता है।

यह भी पढ़े: देश में सबसे अधिक बिहार के कॉलेजों में छात्रों का नामांकन…

संजय झा का जन्म 1963 में हुआ था। उन्होंने लिवरपूल विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग में बीएस और स्ट्रेथक्लाइड विश्वविद्यालय से इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियरिंग में पीएचडी की उपाधि हासिल की। 2011 में, संजय झा को स्ट्रेथक्लाइड विश्वविद्यालय द्वारा डी.एससी की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया। 2023 तक संजय के झा की अनुमानित कुल संपत्ति कम से कम $3 मिलियन डॉलर है। संजय के झा क्वालकॉम इंक के सीओओ, ईवीपी और ग्रुप प्रेसिडेंट क्यूसीटी हैं और क्वालकॉम इंक (क्यूकॉम) के लगभग 25,112 शेयरों के मालिक हैं, जिनकी कीमत 3 मिलियन डॉलर से अधिक है।

रविन्द्र किशोर सिन्हा, पत्रकार, राजनेता, सामाजिक उद्यमी और सुरक्षा पेशेवर हैं। सिन्हा राज्यसभा के सदस्य हैं और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता हैं।उन्होंने 1985 में भारत की दूसरी सबसे बड़ी सिक्योरिटी सर्विसेज़ फर्म की स्थापना की थी। जिसे हम SIS (Security & Intelligence Services) के नाम से भी जानते हैं। 250 रुपये की मामूली राशि के साथ, सिन्हा ने अपना व्यवसाय शुरू किया और अपने तेज व्यापारिक कौशल के साथ सफलता की कहानी लिखी।उन्होंने दानापुर रेजिमेंटल सेंटर में सेना के जवानों से संपर्क किया और पूर्व सैनिकों का विवरण प्राप्त किया। उन्होंने उनमें से 14 को 400 रुपये के मासिक वेतन पर अपने बिल्डर मित्र की इमारतों पर निजी गार्ड के रूप में तैनात किया। रवींद्र किशोर सिन्हा राज्यसभा सांसद हैं। रवींद्र किशोर सिन्हा की कुल संपत्ति $5 मिलियन के आसपास है।

नवीन अग्रवाल कोंकोला रिसोर्सेज पीएलसी में एक अध्यक्ष और माल्को पावर कंपनी लिमिटेड में एक गैर-कार्यकारी अध्यक्ष हैं। वे वेदांता लिमिटेड, वेदांता रिसोर्सेज लिमिटेड, हिंदुस्तान जिंक लिमिटेड, स्टरलाइट टेलीलिंक लिमिटेड के निदेशक मंडल में भी हैं। उन्होंने सिडेनहैम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स से स्नातक की डिग्री हासिल की। नवीन वेदांता ग्रुप के मालिक अनिल अग्रवाल के भाई हैं। वह वेदांता रिसोर्सेज़ के उपाध्यक्ष भी हैं. रिपोर्ट्स के मुताबिक़, नवीन और उनकी फ़ैमिली की नेट वर्थ, 11,043 करोड़ रुपये के लगभग है।

Related Articles

Back to top button