Breaking News

पटना में बुलडोजर तोड़ रहे मकानों को, RJD बोली- मोदी- योगी से आगे जाना चाहते हैं नीतीश कुमार

राजधानी पटना के राजीव नगर थाना के अंतर्गत नेपाली नगर के इलाके में भारी बवाल हो रहा है. प्रशासन 70 मकानों को ध्वस्त करने में जुटी है. जिसको लेकर स्थानीय लोग इसका जमकर विरोध कर रहे हैं. मौके पर युद्ध सा माहौल बना हुआ है. इस मामले पर राजनीति भी तेज हो गई है. बुलडोजर को लेकर आरजेडी ने नीतीश सरकार पर जमकर निशाना साधा है. आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी से भी आगे जाना चाहते हैं. इसलिए बुलडोजर चला रहे हैं.

जगदानंद सिंह ने कहा कि सारे आवास ढहाए जा रहे हैं. 10-20 लाख ही नहीं कहीं करोड़ों का मकान बने होंगे. मैं नहीं जानता. लेकिन मुझे लगता है कि इसका सेटलमेंट भी हो सकता था. सरकार शायद कोई अर्बन कॉलोनी बनाने के लिए जमीन लेना चाहती है. आरजेडी प्रदेश अध्यक्ष ने कहा कि सरकार का काम सिर्फ बुलडोजर चलाना नहीं है. सरकार का काम है मानवता के आधार पर परिवारों को तकलीफ पहुंचाने की जगह राहत देना है. वहीं जगदानंद सिंह ने नीतीश कुमार पर हमला बोलते हुए कहा कि नीतीश कुमार बुलडोजर चलाने में योगी आदित्यनाथ और पीएम मोदी से पीछे चल रहे थे. इसलिए उन लोगों को प्रसन्न करने के लिए अपने राज्य को बुलडोजर राज्य कहलवाने के लिए शायद आज बुलडोजर चला रहे हैं.

इससे पहले नेपाली नगर में अवैध निर्माण तोड़ने पहुंची पुलिस पर स्थानीय लोगों ने हमला कर दिया. जिससे सिटी एसपी समेत कई पुलिसकर्मी जख्मी हो गए हैं. मौके पर जाप अध्यक्ष पप्पू यादव भी पहुंच गए हैं. हालांकि पटना डीएम ने पप्पू यादव को मौके से जाने को कहा. जिसके बाद जाप अध्यक्ष वहां से निकल गए हैं. डीएम ने पप्पू यादव को भरोसा दिया है कि आप चले जाइये हमलोग देख लेंगे. जाप अध्यक्ष पप्पू यादव ने कहा कि मेरा सवाल है कि राजीव नगर, नेपाली नगर के लोगों ने जब जमीन लिया और जब लोग बेच रहे थे. उस समय सरकार ने मना क्यों नहीं किया.

बता दें कि पटना के राजीव नगर थाना के अंतर्गत नेपाली नगर के इलाके में प्रशासन 70 मकानों को ध्वस्त करने में जुट गयी है. प्रशासन की टीम रविवार को पौ फटते ही करीब 14 बुलडोजर (जेसीबी) लेकर घरों को तोड़ने पहुंची. प्रशासन के मुताबिक ये सभी घर बिहार राज्‍य हाउसिंग बोर्ड की जमीन पर अवैध कब्‍जा कर बनाये गये हैं. इलाके में हंगामा रोकने के लिए करीब दो हजार पुलिस फोर्स को तैनात किया गया है. हालांकि इस पूरी कार्रवाई का स्थानीय लोग जमकर विरोध कर रहे हैं. आवासीय बोर्ड ने यहां लोगों को घर खाली करने का नोटिस दिया था. तब से विरोध जारी है

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button